बांग्लादेश में दुर्गा पूजा स्थलों पर हमले के बाद शेख़ हसीना ने भारत को भी दी नसीहत

बांग्लादेश के कोमिल्ला में हिन्दू मंदिर पर हमले के बाद का एक दृश्य।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख़ हसीना ने सख़्त चेतावनी देते हुए कहा है कि कोमिल्ला में दुर्गा पूजा स्थल और हिन्दू मंदिरों पर हमला करने वाले बचेंगे नहीं.

शेख़ हसीना ने कहा है कि कोमिल्ला में हुए हमले की जाँच होगी और किसी भी दोषी को छोड़ा नहीं जाएगा. इन हमलों में बांग्लादेश के चांदपुर में चार लोगों की मौत हुई है.

बांग्लादेश के प्रमुख अंग्रेज़ी अख़बार 'ढाका ट्रिब्यून' के अनुसार, शेख़ हसीना ने कहा कि कोई मायने नहीं रखता है कि दोषी किस मज़हब का है. प्रधानमंत्री ने कहा कि दोषियों को पकड़ा जाएगा और उन्हें सज़ा मिलेगी.

गुरुवार को बांग्लादेश की प्रधानमंत्री ने ये बात राजधानी ढाका स्थित ढाकेश्वरी मंदिर में दुर्गा पूजा के मौक़े पर हिन्दुओं को पूजा की बधाई देते हुए कही. प्रधानमंत्री पूजा महोत्सव में वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के ज़रिए शामिल हुई थीं.
बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख़ हसीना

ढाकेश्वरी बांग्लोदश का सबसे बड़ा मंदिर है और इसके नाम पर ही राजधानी ढाका का नाम पड़ा है. 2018 की दुर्गा पूजा में बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख़ हसीना ने दुर्गा पूजा के मौक़े पर राजधानी ढाका स्थित ढाकेश्वरी हिंदू मंदिर को 1.5 बीघा ज़मीन दी थी.।
शेख़ हसीना ने भारत को भी नसीहत देते हुए कहा है कि उसे उपद्रवियों को लेकर सख़्त रहना चाहिए. शेख हसीना ने कहा है, ''यहाँ तक कि भारत में भी ऐसा कुछ नहीं होना चाहिए जिससे हमारा मुल्क प्रभावित हो और हमारे हिन्दुओं को मुश्किलों का सामना करना पड़े. भारत में कुछ होता है तो हमारे यहाँ के हिन्दू प्रभावित होते हैं. भारत को भी इसे लेकर सतर्क रहने की ज़रूरत है.''

शेख़ हसीना ने कहा, ''दुनिया भर में बढ़ती आतंकवादी गतिविधियों से हम भी प्रभावित हुए हैं. इसे लेकर न केवल हमें सतर्क रहना है बल्कि पड़ोसी मुल्क को भी रहना है. पड़ोसी भारत ने मुक्ति युद्ध में हमें मदद की थी और हम हमेशा इसे लेकर आभारी रहते हैं.''

भारत की प्रतिक्रिया
बांग्लादेश में हमले को लेकर भारत से भी प्रतिक्रिया आई है. भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने बांग्लादेश की तत्काल कार्रवाई की तारीफ़ की है. उन्होंने गुरुवार को साप्ताहिक प्रेस कॉन्फ़्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि तुरंत कार्रवाई से स्थिति को नियंत्रित कर लिया गया है.

बीजेपी के सोशल मीडिया प्रमुख अमित मालवीय ने बांग्लादेश में दुर्गा पूजा स्थलों पर हमले को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा।
अमित मालवीय ने अपने ट्वीट में लिखा है, ''बांग्लादेश में हिन्दुओं की धार्मिक स्वतंत्रता ख़तरे में है और यह बताता है कि सीएए एक मानवीय क़ानून है. ममता बनर्जी का सीएए का विरोध और सोची-समझी चुप्पी पश्चिम बंगाल के हिन्दुओं के लिए निराशाजनक है. यहाँ के हिन्दू भी टीएमसी शासन में हाशिए पर जा रहे हैं.''

बीबीसी बांग्ला से बांग्लादेश पूजा उत्सव परिषद के अध्यक्ष मिलन कांति दत्त ने कहा है कि पूजा स्थलों पर हुए हमले और हिंसा से सुरक्षा को लेकर चिंता बढ़ी है. दत्त ने कहा कि सुनियोजित हमले हुए हैं इसीलिए हिन्दू समुदाय में डर है.

शेख़ हसीना ने कहा कि कोमिल्ला के मंदिर में तोड़फोड़ एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना है. शेख़ हसीना ने कहा कि जो लोगों का विश्वास जीतने में असमर्थ हैं और जिनकी कोई विचारधारा नहीं है, वे लोग ही इस तरह के हमले कर सकते हैं.

शेख़ हसीना ने कहा, ''हमें कई सूचनाएं मिल रही हैं. हम उन्हें ज़रूर पकड़ेंगे, जो हमले में शामिल थे. यह तकनीक का ज़माना है. उन्हें ज़रूर पकड़ा जाएगा. हमने ऐसा अतीत में भी किया है और भविष्य में भी करेंगे. दोषियों को सज़ा मिलेगी. दोषियों को ऐसी सज़ा मिलेगी कि याद रहेगी और भविष्य में कोई भी दोबारा करने की हिम्मत नहीं करेगा.''

त्योहार सबके लिए
शेख़ हसीना ने सभी से मिलकर काम करने और ऐसी घटनाओं से सतर्क रहने की अपील की. बांग्लादेश की प्रधानमंत्री ने कहा कि चाहे किसी भी जाति, धर्म या पंथ के हों, यहाँ त्योहार एक साथ मनेगा.

शेख़ हसीना ने कहा, ''धर्म व्यक्तिगत होता है जबकि त्योहार सबके लिए होता है और हम सभी उत्सव साथ मिलकर मनाते हैं. लेकिन कुछ लोग धर्मांध होते हैं और ऐसे लोग हमेशा सांप्रदायिक टकराव पैदा करते हैं. ऐसे लोग केवल मुस्लिम समुदाय में ही नहीं हैं बल्कि दूसरे धर्मों में भी हैं. अगर हम साथ मिलकर काम करेंगे तो ऐसे लोग सफल नहीं होंगे.''

शेख़ हसीना ने कहा कोमिल्ला में इस तरह का हमला तब हुआ है जब मुल्क तेज़ी से प्रगति की ओर बढ़ रहा है. प्रधानमंत्री ने कहा, ''हमारा यही लक्ष्य है कि देश को समस्या से निकालें.''

बुधवार को कोमिल्ला में सोशल मीडिया पर क़ुरान के अपमान की ख़बर से तनाव बढ़ गया था. सोशल मीडिया पर कहा गया था कि ननुआर दिघी में दुर्गा पूजा स्थल पर क़ुरान का अपमान हआ है. इसके बाद कई दुर्गा पूजा स्थलों पर हमले हुए.

शेख़ हसीना ने बांग्लादेश के हिन्दुओं से ये भी कहा है कि वे ख़ुद को अल्पसंख्यक ना मानें और दूसरे धर्म के लोगों की तरह अपने कर्मकांडो का आयोजन करते रहें. हसीना ने कहा कि सभी धर्म के लोग इसी मिट्टी में जन्मे हैं और पले-बढ़े हैं.।
प्रधानमंत्री ने कहा कि 1971 में हमने कंधे से कंधा मिलाकर मुक्ति युद्ध किया था. शेख़ हसीना ने कहा कि बंगबंधु शेख़ मुजीब-उर-रहमान ने बांग्लादेश को एक सेक्युलर देश बनाया था. उन्होंने कहा कि बंगबंधु यही चाहते थे कि बांग्लादेश में सभी धर्म के लोग अपने धर्म का आज़ादी से पालन करें.

शेख़ हसीना ने कहा, ''हमारा लक्ष्य बांग्लादेश को शांतिप्रिय देश बनाना है, जहाँ आतंकवाद के लिए कोई जगह नहीं होगी. बंगबंधु ने जिस मक़सद से स्वतंत्र मुल्क बनाया था, हम उसी रास्ते पर चलेंगे. हम चाहते हैं कि बांग्लादेश भूख और ग़रीबी से मुक्त हो और यही बंगबंधु का भी सपना था.''

दुर्गा पूजा स्थलों पर हमले के बाद बांग्लादेश ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है. 22 ज़िलों में बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश की तैनाती की गई है.

इस्लामिक कट्टरपंथ
बांग्लादेश में कई इस्लामिक कट्टरपंथी धड़े हैं जो शेख हसीना की सरकार से ख़फ़ा रहते हैं.

पिछले साल बांग्लादेश के कट्टरपंथी इस्लामिक समूह हज़रत-ए-इस्लाम के नए प्रमुख जुनैद बाबूनगरी ने कहा था कि 'देश की सभी मूर्तियों को गिरा देंगे और कोई मायने नहीं रखता है कि कौन सी मूर्ति किसकी है. यहाँ तक कि हज़रत-ए-इस्लाम ने बंगबंधु शेख़ मुजीब-उर-रहमान की 100वीं जयंती पर उनकी मूर्ति लगाने का विरोध किया था.

बांग्लादेश में हिन्दू अब 8.96% बचे हैं. कहा जाता है कि धार्मिक हिंसा और भय के कारण हिन्दुओं की बड़ी संख्या में बांग्लादेश से पलायन हुआ है. दुर्गा पूजा में बांग्लादेश में हिन्दुओं पर हमला पहले भी होता रहा है. 2001 में बीएनपी-जमात गठबंधन की जीत के बाद हिन्दुओं के ख़िलाफ़ हिंसा और बढ़ी थी. 2004 की अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता रिपोर्ट के अनुसार, 2001 के चुनाव के बाद चिटगाँव में एक हिन्दू परिवार के 11 सदस्यों को ज़िंदा जला दिया गया था. बीएनपी के कार्यकर्ताओं पर हिन्दू महिलाओं के साथ रेप के भी आरोप लगे थे.।

हमारी साइट पर विजिट करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। इसी प्रकार नॉलेजेबल जानकारी पाने के लिए आप हमारी साइट को सब्सक्राइब कर सकते हैं ।
हमसे संपर्क करें - gehlotamarsa@gmail.com

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

JIO यूजर्स एक बार कर लें ये रिचार्ज तो 2 साल के लिए हो जाएंगे फ्री, AIRTEL और VI को लगा तगड़ा झटका

जानिए इंटरनेट पर 1 मिनट क्या क्या हो रहा है।

Elon Musk के सपोर्ट वाली एक और क्रिप्टोकरेंसी का धमाल, 1000 रु को बनाया 34 लाख रु